फर्जी दस्तावेज तैयार कर कारोबारी फर्म एकम एपेक्स से सात करोड़ की ठगी

कपूरथला:(दोआबा रिपोर्टर ) फर्जी दस्तावेज तैयार कर कारोबारी फर्म एकम एपेक्स से सात करोड़ की ठगी के मामले में कई बैंक अधिकारियों की मिलीभगत सामने आई है। डीजीपी की निगरानी में हुई जांच के बाद पुलिस ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (सेक्टर-17बी चंडीगढ़) के सहायक जनरल मैनेजर विपन नेगी एवं अदिति वालिया के अलावा लुधियाना निवासी दीपक बजाज एवं नवल किशोर के खिलाफ सीजीएम कोर्ट चालान पेश किया गया। मैनेजर सोनल गुप्ता के खिलाफ पिछले साल कोर्ट में चालान पेश किया गया था। फर्म की पार्टनर लोअर माल निवासी सोनिया बावा ने फर्म के दूसरे पार्टनर के खिलाफ जालसाजी का आरोप लगाते हुए 2014 में पुलिस में शिकायत की थी। पुलिस ने फर्म के पाटर्नर सुख¨वदर ¨सह एवं उसके परिवारिक सदस्यों के खिलाफ मई 2014 को केस दर्ज किया था। कोर्ट ने उन्हें भगोड़ा घोषित कर दिया है।
पार्टनरशिप डीड में लिखा गया है कि अगर फर्म किसी बैंक से डील करेगी, तो उस वक्त सभी दस्तावेजों पर दोनों पार्टनर्स के दस्तखत होंगे, लेकिन सुखविन्दर सिंह ने बैंक अधिकारियों से मिल कर मोड ऑफ ऑपरेशन बदल दिया और इसमें लिख लिया कि बैंक के साथ कोई डीलिंग करनी हो तो दोनों पार्टनर एक साथ या अकेले भी दस्तख्त कर सकते हैं। फर्जी दस्तावेज फोरेंसिक लैब भेजे गए। रिपोर्ट में पाया गया कि इनसे छेड़छाड़ हुई है। चालान के मुताबिक एजीएम विपन नेगी, सहायक मैनेजर अदिति वालिया, मैनेजर धर्मेद्र तिवारी और सहायक मैनेजर गरिमा की भूमिका को लेकर जांच की जा रही है। इसके अलावा कोटक म¨हद्रा बैंक जालंधर एवं एक्सिस बैंक चंडीगढ़ के अधिकारियों की भूमिका की भी जांच चल रही है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *