‘फेक न्यूज़’ यानि गलत खबर चलाने पर अब पत्रकारों की मान्यता रद्द

नई दिल्ली: ‘फेक न्यूज़’ यानि गलत खबर चलाने पर अब पत्रकारों की मान्यता रद्द हो सकती है. केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन के मुताबिक, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बढ़ते फेक न्यूज़़ को देखते हुए यह फैसला लिया गया गया है. नए नियम की समीक्षा के लिए पत्रकारों ने आज शाम 4 बजे इमरजेंसी बैठक बुलाई है.
कौन सी खबर फेक न्यूज है और इसके लिए किसे जिम्मेदार ठहराया जा सकता है इसकी जांच काउंसिल ऑफ इंडिया (पीसीआई) और न्यूज ब्राडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) करेगी. दोनों संस्थाओं को शिकायत मिलने के बाद 15 दिनों में जांच पूरी करनी होगी. एक बार शिकायत दर्ज कर लिए जाने के बाद आरोपी पत्रकार की मान्यता जांच के दौरान भी निलंबित रहेगी.
अगर कोई पत्रकार पहली बार फेक न्यूज़ प्रसारित करता है तो उस पत्रकार की 6 महीने के लिए मान्यता निलंबित की जाएगी, दूसरी बार साल भर के लिए और तीसरी बार दोषी पाये जाने पर हमेशा के लिए मान्यता रद्द की जा सकती है.
हाल ही में फेक न्यूज़ फैलाने के आरोप में बेंगलुरू पुलिस ने पोस्टकार्ड न्यूज़ के एडिटर महेश विक्रम हेगड़े को गिरफ्तार किया था. महेश की गिरफ्तारी के बाद बीजेपी ने कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार पर निशाना साधा था. केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता अनंत हेगड़े ने ट्विट कर कहा था, “सिद्धारमैया सरकार को शर्म आनी चाहिए जो महेश हेगड़े को गिरफ्तार कर तानाशाह जैसा बर्ताव कर रही है. बुजदिलों जैसे कदम उठाने की बजाए हमसे लोकतांत्रिक तरीके से लड़िए.”
वहीं कई पत्रकारों ने पोस्टकार्ड न्यूज़ के एडिटर की गिरफ्तारी को सही ठहराया था. महेश विक्रम हेगड़े ने एक ट्विट किया था जिसमें उन्होंने कहा था कि एक जैन मुनि पर कथित तौर पर एक मुसलमान ने हमला किया. जबकि पुलिस के मुताबिक यह सड़क दुर्घटना थी.

Share
  • 4
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *