हाईकोर्ट ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भेजा नोटिस, किताब में हिंदू भावनाएं आहत करने का आरोप

नई दिल्ली : देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। उन पर अपनी किताब में हिंदू भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा है। दिल्ली हाईकोर्ट में इसी को लेकर याचिका दी गई। याचिकाकार्ताओं का कहना है कि मुखर्जी की किताब ‘टर्बुलेंट इयर्स 1980-1996’ में कुछ हिस्से ऐसे हैं, जो हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाते हैं। उन्हें तत्काल किताब से हटाया जाना चाहिए। दिल्ली हाईकोर्ट की ओर से इसी संबंध में शुक्रवार (छह अप्रैल) को पूर्व राष्ट्रपति और रूपा पब्लिकेशन को नोटिस भेजा है। मुखर्जी को इस पर जवाब देने के लिए 30 जुलाई तक की मोहलत दी गई है।
यह याचिका इससे पहले निचली अदालत में दी गई थी। 30 नवंबर 2016 को इसे यहां खारिज कर दिया गया था, जिसके बाद याचिकाकर्ताओं ने इसे दिल्ली हाईकोर्ट में दिया था। ट्रायल कोर्ट में यह याचिका सामाजिक कार्यकर्ता यू.सी.पाण्डे और वकीलों के समूह ने मिलकर दी थी।
याचिका के जरिए मुखर्जी की किताब में शामिल अयोध्या स्थित राम जन्मभूमि और बाबरी विध्वंस से जुड़े कुछ हिस्सों पर आपत्ति जताई गई थी। याचिकाकर्ताओं का दावा था कि किताब के उन हिस्सों से हिंदुओं की भावनाएं आहत हुईं।निचली अदालत में याचिका खारिज किए जाने के बाद याचिकाकर्ताओं ने इस बाबत दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। याचिकाकर्ता के वकील विष्णु शंकर जैन का कहना है कि पूर्व राष्ट्रपति की किताब की पृष्ठ संख्या 128-129 पर लिखा गया है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने एक फरवरी 1986 को राम जन्मभूमि में मंदिर खुलवाने का आदेश देकर गलत फैसला लिया था।

Share
  • 2
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *