क्या येचुरी और करात के टकराव से टूट जाएगी सीपीएम?

2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र कांग्रेस के साथ गठजोड़ को लेकर सीपीएम के अंदर तनातनी चल रही है. करात धड़ा यह मानता है कि चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस के साथ जाना ठीक नहीं, जबकि येचुरी और उनके समर्थकों का मानना है कि कांग्रेस के साथ गठबंधन करने पर उन्हें फायदा होगा.
अविभाजित कम्युनिस्ट पार्टी के 93 साल और सीपीएम के 54 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है, जब पार्टी में ‘सीक्रेट बैलेट’ यानी गुप्त मतपत्र की मांग उठाई जा रही है. इसके पीछे ये तर्क दिया जा रहा है कि आने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर ऐसा करने से सीपीएम-कांग्रेस गठबंधन का भविष्य तय होगा. वहीं, आम चुनाव से पहले गैर-बीजेपी गठबंधन की कवायद के लिए भी ऐसा करना जरूरी है.
‘सीक्रेट बैलट’ की मांग उठने के बाद सीपीएम दो धड़ों में बंट गई है. एक धड़ा पार्टी महासचिव सीताराम येचुरी का है और दूसरे धड़े का नेतृत्व पूर्व महासचिव प्रकाश करात कर रहे हैं. येचुरी का मानना है कि बीजेपी को हराने के लिए सभी लेफ्ट-सेक्युलर-डेमोक्रेटिक ताकतों और यहां तक की कांग्रेस को एक साथ आना होगा. लेकिन, येचुरी के विरोधी प्रकाश करात नहीं चाहते कि सीपीएम कांग्रेस के साथ किसी भी तरह का कोई गठबंधन करे.
सीपीएम के पास नए पॉलिटिकल रेजोल्यूशन को अपनाने, नया महासचिव चुनने या पुराने महासचिव को दोबारा चुनने के लिए दो दिन बचे हैं. इसके लिए हैदराबाद में मीटिंग भी चल रही है. लेकिन, येचुरी-करात के धड़ों के बीच आपसी घमासान और लॉबिंग के कारण पार्टी कोई भी फैसला नहीं ले पा रही. बुधवार को कुछ प्रतिनिधियों ने फिर से ‘सीक्रेट बैलट’ की मांग उठाई.
गुरुवार को 11 राज्यों के प्रतिनिधियों ने इसपर अपने विचार रखे. इनमें से 6 राज्यों ने अलग-अलग राय दी है. जबकि, महाराष्ट्र के प्रतिनिधियों ने भी ‘सीक्रेट बैलट’ की मांग को समर्थन किया.
जनवरी में कोलकाता में हुए सेंट्रल कमिटी की मीटिंग में करात के धड़े ने येचुरी के रेजोल्यूशन को 31:55 वोट से हरा दिया था. वहीं, बुधवार को हैदराबाद में हुई मीटिंग में सेंट्रल कमिटी ने करात के रेजोल्यूशन के लिए 286 संशोधन स्वीकार किए हैं. इनपर शुक्रवार को चर्चा के बाद शनिवार को वोटिंग कराई जाएगी.
हैदराबाद में मंगलवार को हुई मीटिंग में सेंट्रल कमिटी ने सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी से 764 प्रतिनिधिमंडल के सामने अल्पसंख्यकों के विचार रखने को कहा था. वहीं, पूर्व महासचिव प्रकाश करात बहुसंख्यक ड्राफ्ट रेजोल्यूशन पेश किया था. करात ने इसमें कांग्रेस की जरूरत नहीं होने पर जोर दिया था. येचुरी धड़े ने तर्क दिया था कि चुनावी सफलता के बिना पार्टी आगे नहीं बढ़ सकती और न ही ‘फासीवादी’ संघ परिवार के खिलाफ लड़ सकती है.
सीपीएम ने पिछले महीने त्रिपुरा में बीजेपी के हाथों करारी हार से कोई सबक नहीं लिया है. पार्टी मुश्किल में है लेकिन इस पर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है. येचुरी और करात के समर्थक एक दूसरे के खिलाफ लड़ रहे हैं.

Share
  • 2
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *