RBI ने देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक और BOI पर लगाया 6 करोड़ का जुर्माना

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India) और पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) पर मानदंडों के उल्लंघन के लिए कुल मिलाकर 6 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया, जिसमें से एक उल्लंघन धोखाधड़ी के वर्गीकरण और उसकी सूचना देने के नियम से संबंधित है. बैंक ऑफ इंडिया पर 4 करोड़ रुपए का जुर्माना और पंजाब नेशनल बैंक पर 2 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया.

आरबीआई ने एक बयान में कहा कि बैंक ऑफ इंडिया के इंस्पेक्शन ऑफ सुपरवाइजर इवेलुएशन (ISE) के लिए वैधानिक निरीक्षण 31 मार्च 2019 को किया गया था. बैंक ने एक खाते में धोखाधड़ी का पता लगाने के लिए एक समीक्षा की और धोखाधड़ी निगरानी रिपोर्ट (FMR) सौंपी.आरबीआई ने एक अलग बयान में कहा कि वित्तीय स्थिति के संदर्भ में पंजाब नेशनल बैंक का वैधानिक निरीक्षण किया गया. केंद्रीय बैंक ने कहा कि जोखिम मूल्यांकन रिपोर्ट की जांच से पता चला कि इन मामलों में मानदंड़ों का पालन नहीं किया गया है.

HDFC बैंक पर 10 करोड़ का जुर्माना
बता दें कि इससे पहले, आरबीआई ने बैंकिंग विनियमन अधिनियम की धारा 6(2) और धारा 8 के प्रावधानों के उल्लंघन के चलते देश के सबसे बड़े निजी बैंक HDFC पर 10 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया था. बैंक के ऑटो ऋण पोर्टफोलियो के संबंध में कई व्हिसलब्लोअर शिकायत पाई गई. जिसकी जांच में कई अनियमितताएं पाई गईं.

इन बैंकों पर भी लगाया था जुर्माना
वहीं, पिछले महीने रिजर्व बैंक ने महाराष्ट्र के प्रियदर्शिनी महिला नगरी सहकारी बैंक पर नियमों की अनदेखी के चलते 1 लाख रुपए का जुर्माना लगाया था. रिजर्व बैंक की तरफ से कहा गया कि इस सहकारी बैंक को सुपरवाइजरी एक्शन फ्रेमवर्क यानी SAF संबंधित कुछ निर्देश जारी किए थे जिसे इसने फॉलो नहीं किया. यही वजह है कि रिजर्व बैंक ने जुर्माना लगाने का फैसला किया.

3 मई को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कुछ दिशा निर्देशों के उल्लंघन के लिए आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) पर 3 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया था. केंद्रीय बैंक ने एक बयान में कहा कि मास्टर सर्कुलर में दिये गये दिशानिर्देशों के उल्लंघन को लेकर ICICI Bank पर 3 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया.

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India) और पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) पर मानदंडों के उल्लंघन के लिए कुल मिलाकर 6 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया, जिसमें से एक उल्लंघन धोखाधड़ी के वर्गीकरण और उसकी सूचना देने के नियम से संबंधित है. बैंक ऑफ इंडिया पर 4 करोड़ रुपए का जुर्माना और पंजाब नेशनल बैंक पर 2 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया.

आरबीआई ने एक बयान में कहा कि बैंक ऑफ इंडिया के इंस्पेक्शन ऑफ सुपरवाइजर इवेलुएशन (ISE) के लिए वैधानिक निरीक्षण 31 मार्च 2019 को किया गया था. बैंक ने एक खाते में धोखाधड़ी का पता लगाने के लिए एक समीक्षा की और धोखाधड़ी निगरानी रिपोर्ट (FMR) सौंपी.

आरबीआई ने एक अलग बयान में कहा कि वित्तीय स्थिति के संदर्भ में पंजाब नेशनल बैंक का वैधानिक निरीक्षण किया गया. केंद्रीय बैंक ने कहा कि जोखिम मूल्यांकन रिपोर्ट की जांच से पता चला कि इन मामलों में मानदंड़ों का पालन नहीं किया गया है.

HDFC बैंक पर 10 करोड़ का जुर्माना
बता दें कि इससे पहले, आरबीआई ने बैंकिंग विनियमन अधिनियम की धारा 6(2) और धारा 8 के प्रावधानों के उल्लंघन के चलते देश के सबसे बड़े निजी बैंक HDFC पर 10 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया था. बैंक के ऑटो ऋण पोर्टफोलियो के संबंध में कई व्हिसलब्लोअर शिकायत पाई गई. जिसकी जांच में कई अनियमितताएं पाई गईं.

इन बैंकों पर भी लगाया था जुर्माना
वहीं, पिछले महीने रिजर्व बैंक ने महाराष्ट्र के प्रियदर्शिनी महिला नगरी सहकारी बैंक पर नियमों की अनदेखी के चलते 1 लाख रुपए का जुर्माना लगाया था. रिजर्व बैंक की तरफ से कहा गया कि इस सहकारी बैंक को सुपरवाइजरी एक्शन फ्रेमवर्क यानी SAF संबंधित कुछ निर्देश जारी किए थे जिसे इसने फॉलो नहीं किया. यही वजह है कि रिजर्व बैंक ने जुर्माना लगाने का फैसला किया.

3 मई को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कुछ दिशा निर्देशों के उल्लंघन के लिए आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) पर 3 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया था. केंद्रीय बैंक ने एक बयान में कहा कि मास्टर सर्कुलर में दिये गये दिशानिर्देशों के उल्लंघन को लेकर ICICI Bank पर 3 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया.

Share
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *