हाईकमान करेगा डिप्टी सीएम की नियुक्ति का फैसला

पंजाब कांग्रेस का विवाद सुलझाने के लिए गठित तीन सदस्यीय कमेटी ने गुरुवार को अपनी रिपोर्ट कांग्रेस हाईकमान को सौंप दी। रिपोर्ट में कमेटी ने क्या सिफारिश की हैं, उसका खुलासा नहीं हो पाया है। कमेटी के सदस्यों ने रिपोर्ट को गोपनीय बताया और कहा कि हाईकमान ने जो काम सौंपा था, उसे उन्होंने पूरा कर दिया है। अगला फैसला हाईकमान को लेना है।

गुरुवार सुबह दिल्ली में तीन सदस्यीय कमेटी की बैठक हुई और उसके बाद कमेटी की रिपोर्ट को हाईकमान को सौंपने का फैसला लिया गया। इस संबंध में कमेटी के सदस्य और पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि रिपोर्ट सौंप दी गई है। इसे पंजाब के सभी कांग्रेस नेताओं से बातचीत कर उनकी राय के आधार पर तैयार किया गया है।

उन्होंने कहा कि कमेटी ने पंजाब के सभी कांग्रेस विधायकों, मंत्रियों, वरिष्ठ नेताओं, पूर्व और मौजूदा नेताओं के अलावा पिछला चुनाव नहीं जीत सके कांग्रेस नेताओं से भी बातचीत की गई और उनके विचार भी रिपोर्ट में शामिल किए गए हैं। उन्होंने बताया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री अंबिका सोनी कमेटी से मिलने नहीं आ सकीं। ऐसे में उनके विचार फोन पर जानने की कोशिश की गई। हालांकि उन्होंने बताया कि वे अपने विचार सीधे पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज दिए हैं।
कैसे सुलझेगा विवाद
हरीश रावत ने कहा कि नेताओं के बीच कोई बड़े मतभेद नहीं हैं बल्कि मामूली परेशानी है, जिसे दूर कर लिया जाएगा। कमेटी के सदस्य जेपी अग्रवाल ने कहा कि रिपोर्ट गोपनीय है और सभी नेताओं की राय के आधार पर तैयार गई है। पंजाब कांग्रेस में विवाद के बारे में अग्रवाल ने कहा कि कोई बहुत बड़े मुद्दे नहीं है और बहुत बड़ी गुटबाजी भी नहीं है।

पंजाब में डिप्टी सीएम की नियुक्ति के बारे में पूछने पर अग्रवाल ने कहा कि इस संबंध में फैसला हाईकमान को ही करना है। नवजोत सिंह सिद्धू के बारे में अग्रवाल ने कहा कि सिद्धू जो चाहते हैं, उन्होंने अपनी बात कमेटी के सामने रख दी है। कमेटी के सदस्य मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि हाईकमान ने कमेटी को जिस काम का जिम्मा सौंपा था और कमेटी को पंजाब कांग्रेस नेताओं ने जो कुछ भी बताया, उसी आधार पर रिपोर्ट तैयार की गई है।

कमेटी की गुरुवार को हुई बैठक और रिपोर्ट के बारे में पूछे गए सवालों पर खड़गे ने कहा कि कमेटी की बैठक में पंजाब कांग्रेस को मजबूत करने पर विचार-विमर्श किया गया। उन्होंने कहा कि हाईकमान ने कमेटी को जितना काम दिया था, उसे कमेटी ने पूरा करके दे दिया है। अब अंतिम फैसला पार्टी हाईकमान को करना है।

Share
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *