बच्चों के नाम पर किया है निवेश तो जान लें इनकम टैक्स से जुड़े ये जरूरी नियम

बहुत सारे लोग बच्चों के बेहतर भविष्य की सुरक्षा के लिए इन्वेस्टमेंट करते हैं. हो सकता है कि आपने भी बच्चों के नाम पर निवेश किया होगा या आगे करने वाले होंगे! पर क्या आप जानते हैं कि बच्चों का भी इनकम टैक्स (Income Tax) भरा जाता है? वहीं, अगर ये टैक्स नहीं भरते तो इन निवेश विकल्पों से हुई कमाई पर टैक्स कैसे लगाया जाएगा?
माता-पिता की आय मानी जाएगी
बच्चों के नाम पर किए गए निवेश पर हुई कमाई को माता-पिता की आय में गिना जाएगा. इनकम टैक्स सेक्शन 64(1A) के तहत अभिभावक को ही इस पर टैक्स देना होगा. 18 साल की उम्र ना होने तक बच्चे को माइनर माना जाता है. बच्चे के नाम पर सेविंग्स खाता हो, फिक्स्ड डिपॉजिट या कोई और निवेश, इन पर उन्हें आय होती है.

अगर माता-पिता दोनों कमाते हैं तो बच्चे की आय उनमें जोड़ी जाएगी जिसकी आय ज्यादा है. अगर माता-पिता का तलाक हो चुका है तो जिसके पास बच्चे की कस्टडी है उसकी आय में इस आय को जोड़ा जाएगा.

बच्चे ने जीता कंपटीशन और मिले पैसे तो?
मान लीजिए बच्चे ने अपनी प्रतिभा से कोई कंपीटीशन जीता है. उसने कोई टीवी शो जीता है या किसी और तरीके से उनकी आय हुई है तो बच्चे का अलग से इनकम टैक्स भरना होगा. आप चाहें तो बच्चों (Minors) का भी PAN कार्ड भी बनवा सकते हैं जो रिटर्न भरने के लिए जरूरी माना जाता है.

80C के तहत डिडक्शन
ध्यान दें कि इन निवेश विकल्पों पर मिलने वाली सेक्शन 80C का डिडक्शन भी पेरेंट्स क्लेम कर सकते हैं – जैसे सुकन्या समृद्धि योजना, PPF, 5 साल के टर्म डिपॉजिट आदि पर मिलने वाली छूट. लेकिन, ये डेढ़ लाख रुपये की सीमा ही रहती है क्योंकि दोनों आय को क्लब किया जाता है. बाकी टैक्स नियम निवेश विकल्प के मुताबिक ही रहते हैं.

बच्चों के लिए किए गए निवेश पर टैक्स छूट
अगर बच्चे के नाम पर किए निवेश से हुई आय 1,500 रुपये से कम है तो उसे माता-पिता की आय के साथ नहीं जोड़ा जाता. वहीं, जब इस आय को माता-पिता के साथ जोड़ा जाता है तब अभिभावक हर बच्चे के नाम पर किए निवेश पर 1,500 रुपये का एक्जेंप्शन क्लेम कर सकते हैं.

वहीं, अगर बच्चा दिव्यांग है और उसे देखने, सुनने, चलने या कोई मानसिक रोग है जिसकी सूची इनकम टैक्स के सेक्शन 80U के तहत दी गई है तब भी उनकी आय को माता-पिता की आय में नहीं जोड़ा जाएगा.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *