सिद्धू का अब केंद्र सरकार पर हमला, लिखा- एनडीए का अर्थ- ‘नो डाटा अवेलेबल’

पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने ट्वीट का रुख केंद्र की मोदी सरकार की ओर मोड़ दिया है। सिद्धू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र की एनडीए सरकार को ‘नो डाटा अवेलेबल’(कोई डाटा उपलब्ध नहीं) सरकार की संज्ञा दी है। विभिन्न फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में मोदी सरकार द्वारा मामूली बढ़ोतरी किए जाने की कड़ी निंदा करते हुए सिद्धू ने कहा कि एनडीए सरकार से कोई भी डाटा (आंकड़े) मांग लो, हमेशा यही जवाब मिलता है ‘नो डाटा अवेलेबल।’

गुरुवार को लगातार चार ट्वीट कर सिद्धू ने लिखा-  एनडीए का अर्थ है कि किसानों, मजदूरों और छोटे व्यापारियों… आदि का ‘नो डाटा अवेलेबल’(कोई डाटा उपलब्ध नहीं है)। सरकार केवल अपने अमीर कारपोरेट दोस्तों के बारे में जानती है, जिनका कर्ज माफ किया जाता है, जिनके विमानों में यात्रा की जाती है और जो अपनी नीतियां बनाते हैं, जैसे कि तीन कृषि कानून, जिससे 0.1 फीसदी ही लाभान्वित होंगे, जबकि 70 फीसदी भारतीयों को लूटा जाएगा।

2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के एनडीए सरकार के दावों को चुनौती देते हुए, सिद्धू ने एक अलग ट्वीट में लिखा- केंद्र सरकार ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया था लेकिन गन्ने पर एफआरपी में 1.75 फीसदी (सिर्फ 5 रुपये), गेहूं पर एमएसपी में 2 फीसदी (सिर्फ 40 रुपये) की ही वृद्धि की। जबकि पिछले एक साल के दौरान डीजल के दाम में 48 फीसदी, डीएपी के दाम में 140 फीसदी, सरसों के तेल में 174 फीसदी, सूरजमुखी तेल में 170 फीसदी और एलपीजी सिलेंडर के दाम में 190 रुपये की बढ़ोतरी हुई है।

‘नो डाटा अवेलेबल’ को ऐसे किया परिभाषित
नवजोत सिद्धू ने अपने ट्वीट में एनडीए पर निशाना साधते हुए ‘नो डाटा अवेलेबल’(कोई डाटा उपलब्ध नहीं) को दिलचस्प अंदाज में परिभाषित किया, जो इस प्रकार है
किसानों की आय: ‘नो डाटा अवेलेबल’
किसानों की आत्महत्या: ‘नो डाटा अवेलेबल’
नौकरियां छिन जाना: ‘नो डाटा अवेलेबल’
प्रवासी मजदूर: ‘नो डाटा अवेलेबल’
अब एनडीए का अर्थ: ‘नो डाटा अवेलेबल’

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *